हाईकोर्ट पहुंचा एलीवेटेड रोड का मामला

|

Updated: 16 Apr 2021, 08:30 PM IST

धरने-प्रदर्शन बेअसर तो अब कानूनी लड़ाई

, उ"ा न्यायालय में जनहित याचिका दायर
एलीवेटेड रोड को मार्टिंडल ब्रिज से जोडऩे की गुहार

अजमेर. स्टेशन रोड पर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट smart city project के तहत करोड़ों रूपए खर्च कर बनाए जा रहे एलीवेटेड रोड elevated road को बाटा तिराहे पर उतारने के विरोध में अब शहर के व्यापारियों ने कानूनी लड़ाई का निर्णय लिया है। इसके लिए उ"ा न्यायालय High court में वकील एसके सिंह के जरिए जनहित याचिका दायर की गई है। याचिका में राज्य के मुख्य सचिव, शहरी विकास और आवास विभाग के प्रमुख सचिव,अजमेर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सीईओ तथा जिला कलक्टर अजमेर, पुलिस अधीक्षक तथा एलीवेटेड रोड निर्माण कर रही सिमोनिया कम्पनी को पक्षकार बनया गया है। मामले की सुनवाई 19 अपेल 2021 को होगी।
व्यापारियों ने यह बताई समस्या

याचिका में कहा गया है कि अजमेर शहर महासंघ ने एलीवेटेड रोड के संबंध में 17 मार्च 2021 को कलक्टर अजमेर को पत्र लिखा था। इसके अनुसार रेलवे स्टेशन से मार्टिंडेल ब्रिज तक जाने वाली सड़क नीचे खिसक रही है और केसरगंज की ओर जाने वाली सड़क बाटा तिराहे को पूरी तरह से अवरुद्ध कर रही है। उपरोक्त सड़क अगर बाटा तिराहे पर नहीं ढलान देती है तो बहुत अधिक ट्रैफि क भीड़ होगी और केसरगंज और आर्य समाज रोड से आने वाले पानी से सड़क पर बाढ़ और भारी जल जमाव हो जाएगा।

बताई ऐसी दुश्वारियां

सर्विस लेन 10 से 12 फ ीट की होगी जिससे ट्रैफि क की भीड़ बढ़ जाएगी और स्कूल की बसें उस सड़क पर नहीं चल पाएगी। वहां रहने वाली आबादी को बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। महावीर सर्किल से शुरू होने वाली और रेलवे स्टेशन तक जाने वाली एलिवेटेड रोड से आगरा गेट सब्जी मंडी चौराहे जंक्शन पर ट्रैफि क जाम हो जाएगा और आसपास बहुत सारे पार्किंग क्षेत्र हैं और अगर वे वाहन उपलेन से यात्रा करते हैं तो वहां से बड़ी कठिनाई होती है। चूंकि स्टेशन से आने वाली सड़क कोतवाली के सामने से नीचे उतर रही है। उसी तरह महावीर सर्कल के बजाय कोतवाली से चल रही सड़क शुरू होनी चाहिए।

व्यापारी कर रहे थे विरोध
बाटा तिराहे पर भविष्य में होने वाली परेशानी से आशंकित शहर के व्यापारी तथा आमजन लम्बे समय से शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रर्दशन कर रहे हैं। इसके लिए वे जिले के प्रभारी सचिव, संभागीय आयुक्त, जिला कलक्टर आदि से मुलाकात कर ज्ञापन भी सौंप चुके हैं,लेकिन स्मार्ट सिटी के अभियंता अपनी जिद पर अड़ेे हुए हैं। लोगों की सुनवाई नही हो रही है। पुलिस के जरिए विरोध को दबाते हुए एलीवेटेड रोड का काम करवाया जा रहा है। इसके बाद व्यापारियों ने उ"ा न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

read more: थोक में फैसले सुनाए, जमकर समेटा माल!