Big issue: एग्जाम होंगे या नहीं, सभी यूनिवर्सिटी के कुलपति करेंगे चर्चा

|

Updated: 16 Apr 2021, 08:32 AM IST

इस बार कोई उच्च स्तरीय समिति बनाई जा सकती है। यह कमेटी स्नातक और स्नातकोत्तर परीक्षाओं को लेकर सरकार और विभाग को सिफारिश देगी।

रक्तिम तिवारी/अजमेर.

कोरोना संक्रमण के चलते राज्य के विश्वविद्यालयों में भी सत्र 2020-21 की सालाना परीक्षाओं को लेकर सवाल उठ रहे हैं। उच्च शिक्षा विभाग राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से चर्चा करेगा। इसको लेकर कुछ कुलपति ने उच्च शिक्षा विभाग के संयुक्त सचिव मोहम्मद नईम से बातचीत भी की है।

राज्य में 27 सरकारी विश्वविद्यालय हैं। इनसे राज्य के 328 सरकारी और 1852 निजी कॉलेज सम्बद्ध हैं। इनमें सत्र 2020-21 की स्नातक और स्नातकोत्तर की विषय की परीक्षाएं कराई जानी हैं। सीबीएसई ने दसवीं की परीक्षा रद्द और बारहवीं की परीक्षा स्थगित की है। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने भी दसवीं-बारहवीं की परीक्षाएं स्थगित की हैं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए विश्वविद्यालयों और कॉलेज की परीक्षाएं टालने का विचार चल रहा है।

कुलपतियों ने किया संपर्क
राज्य के कई विवि के कुलपतियों ने उच्च शिक्षा विभाग में सम्पर्क किया है। उन्होंने सालाना परीक्षाओं को लेकर स्पष्ट गाइड लाइन तैयार करने और ठोस फैसला लेने को कहा है। ताकि विद्यार्थियों सहित विश्वविद्यालयों और कॉलेज में भ्रम की स्थिति नहीं रहे।

विभाग करेगा चर्चा
विश्वविद्यालयों की परीक्षाओं को लेकर उच्च शिक्षा विभाग भी अलर्ट हो गया है। सरकार ने पिछले साल जयनारायण व्यास यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. पी. सी. त्रिवेदी, उच्च शिक्षा विभाग के संयुक्त सचिव, डॉ. मोहम्मद नईम, कॉलेज शिक्षा आयुक्त की कमेटी बनाई थी। इस बार कोई उच्च स्तरीय समिति बनाई जा सकती है। यह कमेटी स्नातक और स्नातकोत्तर परीक्षाओं को लेकर सरकार और विभाग को सिफारिश देगी।


परीक्षाओं के बारे में स्पष्ट निर्देश को लेकर उच्च शिक्षा विभाग में बातचीत की है। मैंने विभाग से कुलपतियों से चर्चा करने का आग्रह किया है।
प्रो. पी. सी. त्रिवेदी, कुलपति जयनारायण व्यास विवि
उच्च शिक्षा विभाग और सरकार से जैसे दिशा-निर्देश मिलेंगे उसकी पालना करेंगे।ओम थानवी, कुलपति मदस विवि