Fire : राख के ढेर में तब्दील हुआ 2400 ट्रॉली चारा

|

Updated: 16 Apr 2021, 01:44 AM IST

टोंक जिले के कुहाड़ा बुजुर्ग में आग लगने के कारणों का दूसरे दिन भी पता नहीं चल सका। इस आग में सात मवेशी जिंदा जल गए तो सात अन्य बुरी तरह झुलस गए। आग पर गुरुवार को काबू पा लिया गया

जूनिया ( अजमेर ).

समीपवर्ती टोंक जिला अंतर्गत ग्राम कुहाड़ा बुजुर्ग में लगी आग ने ग्रामीणों को खासा नुकसान पहुंचाया। इस आग में कई ग्रामीणों के मवेशी आग की भेंट चढ़ गए तो कइयों के मवेशी बुरी तरह झुलस गए। कई ऐसे भी हैं, जिनके मवेशी तो सुरक्षित बच गए लेकिन इन्हें खिलाने के लिए रखा चारा आग की बलि चढ़ गया।

अब उनके पास मवेशियों को खिलाने के लिए भी चारा नहीं बचा। वहीं आग लगने के कारणों का दूसरे दिन भी पता नहीं चल सका। गांव में बुधवार दोपहर लगी आग की चिंगारी रह रहकर गुरुवार तक सुलगती रहीं। इस पर गुरुवार शाम तक काबू पाया जा सका।

आग के विकराल रूप और हवा के रुख को देख ग्रामीण आग के फिर से भड़कने की चिंता में बुधवार पूरी रात जागकर परिवार व घरों की सुरक्षा करते हुए नजर आए। घटना स्थल पर दमकल देर रात तक वहीं रुककर आग बुझाने के प्रयास में लगी रहीं।

साथ ही अधिकारी व पुलिस प्रशासन भी बुधवार दोपहर से गुरुवार शाम तक मौजूद रहकर स्थिति पर नजर लगाए रहा। गुरुवार को आग पर काबू पाया जाने के बाद तहसीलदार मनमोहन गुप्ता, गिरदावर गणेश पटवारी, मुकेश जांगिड़ आदि आगजनी की घटना पर पहुंचकर नुकसान का आकलन में जुट गए।

पटवारी जांगिड़ ने बताया की आगजनी में लगभग 2400 ट्रॉली चारा जल कर राख हो गया। सात मवेशी जिंदा जल गए और इतने ही मवेशी झुलसने के समाचार हैं। आगजनी से सैकड़ों परिवारों के सामने अपने मवेशियों को पालने के लिए चारे का संकट खड़ा हो गया है।

सरपंच सत्यनारायण राव ने बताया कि गांव में हुई आगजनी की घटना से तीन करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान हुआ है। ग्रामीण ने नुकसान के मुआवजे की माग की है।

पीसांगन मुक्तिधाम में रखे लकडिय़ों के ढेर में लगी आग

पीसांगन. मांगलियावास रोड स्थित मुक्तिधाम परिसर में रखी लकडिय़ों के ढेर में गुरुवार सुबह अचानक आग लग गई। लपटें उठती देखकर ग्रामीण मौके पर पहुंचे और आग बुझाने में जुट गए। वहीं सूचना मिलने पर पुलिस सहित पुष्कर से दमकल घटनास्थल पर पहुंची। करीब 1 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर पूर्णतया काबू पाया गया।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार गत दिवस दाह संस्कार की चिंगारी के कारण आग लगने की आशंका जताई जा रही है। मुक्तिधाम परिषद कमेटी के शिवरतन पलोड़ ने बताया कि लकडिय़ों के ढेर के साथ-साथ प्लास्टिक के पाइप भी आग की भेंट चढ़ गए।

गनीमत रही कि समय रहते आग पर काबू पाने से ज्यादा नुकसान नहीं हुआ। मुक्ति धाम समिति के सदस्य दिनेश तिवाड़ी ने ग्राम पंचायत प्रशासन से मुक्तिधाम परिसर में समतलीकरण कराने साथ सुरक्षा दीवार बनाने की मांग की है।