Gujarat : 'पुलिसकर्मी पहनेंगे बॉडीवार्न कैमरा'

|

Updated: 22 Jan 2021, 10:12 PM IST

Policemen, bodyworn camera, Gujarat government, CCTV, curruption: भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने को और अत्याधुनिक बनेगा एसीबी, एसीबी में फोरेसिंक एडवाइजर व चार्ट एकाउन्टेन्ट की मदद से अन्वेषण करने वाला गुजरात पहला राज्य

 

गांधीनगर. गुजरात में ( Gujarat) भी आमतौर पर कभी पुलिसकर्मी (Policemen) तो कभी आमजन की बदसलूकी के किस्से सामने आते रहते हैं, लेकिन अब ऐसे किस्सों पर लगाम लगाने के लिए पुलिसकर्मी बॉडीवार्न कैमरा (body worn camera) लगाएंगे। मुख्यालय में तीसरी आंख के जरिए उनकी हरकतों पर नजर रखी जाएगी। पुलिस महकमे कार्य प्रणाली को और पारदर्शी बनाने के लिए पुलिसकर्मी बॉडी कैमरा लगाएंगे। मुख्यमंत्री विजय रुपाणी (Chief minister) ने शुक्रवार को यह घोषणा की।

पुलिस महकमे में नहीं होगा आर.आर. सेल (R.R. cell )

उन्होंने कहा कि गुजरात ही ऐसा राज्य है जहां भ्रष्टाचाररोधी ब्यूरो (ACB) में फोरेसिंक एडवाइजर (forensic advisor) एवं चार्टर्ड एकाउन्टेन्ट की मदद से जांच की जाती है। भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए एसीबी को और अत्याधुनिक बनाया जाएगा। अब पुलिस महकमे को और अत्याधुनिक बनाया जा रहा है। वर्ष 1995 से कार्यरत रेंज रिस्पोन्स (आर.आर. सेल) प्रकोष्ठ को खत्म किया जा रहा है और पुलिस अधीक्षकों को ज्यादा अधिकार देकर मजबूत बनाया जाएगा। पुलिसकर्मियों की अपराधियों से मिलीभगत किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं होगी। इसके लिए निगरानी व्यवस्था बनाई जाएगी। साइबर अपराधों पर लगाम लगाने के लिए रेंज क्षेत्र में साइबर पुलिस थाने प्रारंभ किए गए हैं, जो जिला मुख्यालयों में भी स्थापित किए जाएंगे। अपराधियों पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरा नेटवर्क बढ़ाया जाएगा, जहां त्रिनेत्र प्रोजेक्ट के जरिए पुलिस नियंत्रण कक्ष से निगरानी रखी जाएगी।

गृहमंत्री प्रदीपसिंह जाड़ेजा ने कहा कि गुजरात सरकार ने भूमफिया पर लगाम लगाने के लिए भूमाफिया कानून, गुंडा उन्मूलन कानून, और पासा कानून में संशोधन को और सख्त बनाया है। भ्रष्टाचार मुक्त गुजरात बनाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। एसीबी को और मजबूत बनाया जाएगा, जिसे तकनीक और फोरेसिंक मदद से और मजबूती प्रदान की जाएगी।

इस मौके पर मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव कैलाशनाथन, गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पंकज कुमार, गृह सचिव के.के. निराला , पुलिस महानिदेशक आशिष भाटिया और एन्टी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) के गुजरात के निदेशक केशवकुमार मौजूद थे।