BJP जिलाध्यक्ष का अजीब हिसाब, शहर में विकास का दावा—पड़ोसी हैं नाराज, यह है वजह

|

Published: 18 Sep 2021, 02:48 PM IST

— पड़ोस की 100 मीटर की गली नहीं बनवा सके बीजेपी जिलाध्यक्ष, लोगों में आक्रोश।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आगरा। कहते हैं दिया तले अंधेरा। ऐसा ही हाल ही आगरा के बीजेपी जिलाध्यक्ष गिरिराज सिंह कुशवाह का। मिशन 2022 की तैयारियों में जुटी बीजेपी जहां एक-एक वोट के लिए जद्दोजहद करने में जुट गई है, वहीं बीजेपी जिलाध्यक्ष के पड़ोसी 100 मीटर सड़क का निर्माण नहीं होने से परेशान हैं। ये हाल तब है, जब इसी क्षेत्र से जिलाध्यक्ष की पत्नी पार्षद हैं।

न्यू आगरा में है निवास
बीजेपी के जिलाध्यक्ष गिरिराज सिंह कुशवाह थाना न्यू आगरा क्षेत्र के न्यू विद्या नगर में रहते हैं। इसी वार्ड से उनकी पत्नी रेखा कुशवाह भी पार्षद हैं। हालांकि इस क्षेत्र की ज्यादातर गलियां बनी हुई हैं, लेकिन जिलाध्यक्ष के पड़ोस की महज 100 मीटर की एक गली को छोड़ दिया गया। इसे लेकर स्थानीय लोगों में आक्रोश है।

बारिश के समय हो जाते हैं परेशान
यहां के रहने वाले ओमकांत बघेल ने बताया कि 100 मीटर की इस गली में करीब 15 मकान हैं। गली के दोनों सिरे की गलियां में सीमेंट का निर्माण कार्य कराया गया, लेकिन इस गली को छोड़ दिया गया। अब आलम ये है कि इस गली में बारिश के समय में पानी भर जाता है, जो सीधे घरों में पहुंचता है। इस समस्या से निपटने के लिए कुछ लोगों ने खुद के पैसे से मिट्टी डलवा ली, लेकिन अब गली में बारिश के बाद दलदल हो जाता है।

नहीं है कोई सुनवाई
यहां के रहने वाले दिनेश सिंह, मान सिंह, नेत्रपाल, पप्पू बघेल का आरोप है कि जब वे गली का निर्माण कार्य न होने की शिकायत लेकर बीजेपी जिलाध्यक्ष और उनकी पार्षद पत्नी के पास पहुंचे, तो वहां से जवाब मिला कि जिसे चुनाव में वोट दिया था, उससे गली बनवा लो। कई बार मिलने के बाद भी यहां के लोगों की इस समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है।

लोगों में आक्रोश
बीजेपी जिलाध्यक्ष गिरिराज सिंह कुशवाह और उनकी पार्षद पत्नी के इस रवैये से स्थानीय लोगों में आक्रोश है। यहां की रहने वाली महिला अनीता, शारदा, कमलेश, बेबी ने बताया कि पार्षद सुनवाई नहीं करती हैं। वोट उन्हीं को दिया था, लेकिन उन्हें गलतफहमी है, कि पार्षद के चुनाव के दौरान वोट विपक्षी को दिया। इसी वजह से इस गली का निर्माण कार्य नहीं हो पा रहा है। बीजपी जिलाध्यक्ष का कहना है कि जैसे ही बजट आएगा अधूरी गली को पूरा कराया जाएगा।