तीमारदार बन साइकिल पर सवार होकर ऑक्सीजन लेने पहुंचे डीएम, कर्मचारी का जवाब सुन खिल उठा चेहरा

|

Published: 02 May 2021, 04:07 PM IST

लोगों की शिकायतों के बाद आगरा डीएम ने ऑक्सीजन प्लांटों का किया निरीक्षण। सभी प्लाटों पर उपलब्ध मिली ऑक्सीजन। डीएम का दावा है कि जनपद में ऑक्सीजन की कमी नहीं है।

आगरा। कोरोना वायरस की दूसरी लहर में लोगों को अस्पतालों में बेड की कमी के साथ ही मरीजों को ऑक्सीजन मिलने में भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऑकसीजन और अस्पतालों में बेड की कमी से हर कोई जूझ रहा है, ऐसा ही कुछ है ताजनगरी आगरा का जहां पर ऑक्सीजन गैस का संकट बरकरार है। हालांकि भारत में ऑक्सीजन बनाने के कई प्लांट लगाए गए हैं वहीं दूसरे देश भी भारत की इसमें सहायता कर रहे हैं, लेकिन इन सबके बावजूद देश में हो रही ऑक्सीजन की कमी को पूरा नहीं किया जा पा रहा है।

यह भी पढ़ें: गोरखपुर मंडल में जल्द खत्म होगा ऑक्सीजन संकट, एक महीने में लगेंगे 8 नए प्लांट

बात करें आगरा की तो यहां पर कोविड अस्पतालों को भले ही ठीक तरीके से गैस मिल रही हो लेकिन बात करें अगर नॉन कोविड अस्पतालों की तो उनको गैस मिलने में परेशानी हो रही है। हर दिन इसकी शिकायतें नगर निगम स्थित कोविड कंट्रोल रूम में पहुंचती हैं। लगातार मिल रही इस शिकायत के चलते डीएम प्रभु एन सिंह खुद तीमारदार बन कर पहुंचे। डीएम कैंप कार्यालय एन सिंह खुद साइकिल में सवार हुए और सबसे पहले टेढ़ी बगिया स्थित अग्रवाल आक्सीजन प्लांट पहुंचे। जब उन्होंने कर्मचारी से ऑक्सीजन के बारे में पूछा तो कर्मचारी ने पूछा सिलिंडर लेकर आए हो। जिसके बाद डीएम खंदौली स्थित एक अन्य ऑक्सीजन प्लांट पर पहुंचे। वहां पर भी कर्मचारी ने सिलिंडर लेकर आने की बात कही।

यह भी पढ़ें: अजय लल्लू ने कहा - कहां है बेड, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर और रेमडेसिविर इंजेक्शन

जिन सबके बाद डीएम प्रभु एन सिंह का दावा है कि शहर को ऑक्सीजन गैस के संकट से निजात मिल गई है। वहीं हर दिन बड़ी मात्रा में लिक्विड ऑक्सीजन शहर पहुंच रही है। बता दें कि जिला प्रशासन ने विशेष मालवाहक विमान से दो टैंकर रांची भेजे थे। जिसके एक टैंकर की क्षमता 16 टन थी। यह टैंकर भी आगरा पहुंच गए हैं। जिससे शहर को 32 टन लिक्विड ऑक्सीजन मिलेगी। शास्त्रीपुरम औद्योगिक रोड स्थित एडवांस गैस प्लांट में हर दिन ऑक्सीजन लेने के लिए लोगों की लाइन लग रही है। घंटो बाद लोगों का नंबर आने के बाद ही उनको ऑक्सीजन मिल पा रही है।