गैंगस्टर पपला गुर्जर फरारी मामले को लेकर अब आई ये बड़ी खबर

By: Santosh Kumar Trivedi

Updated On: 11 Sep 2019, 11:09:17 AM IST

  • papla gurjar Case: एटीएस के अतिरिक्त महानिदेशक अनिल पालीवाल ने बताया कि पकड़े गए तीनों युवकाें के आपराधिक रिकॉर्ड खंगाले जा रहे हैं।

अलवर। papla gurjar Case: एसओजी ने कुख्यात अपराधी विक्रम उर्फ पपला गुर्जर को भगाने में सहयोग करने वाले तीन युवकों को गिरफ्तार दबोच लिया है। तीनों आरोपियों को मंगलवार शाम बहरोड़ के एसीजेएम के समक्ष पेश किया गया, जहां से उन्हें 12 सितंबर तक एसओजी को रिमांड पर सौंप दिया गया।

 

तीनों युवकाें का नहीं आपराधिक रिकॉर्ड
एटीएस के अतिरिक्त महानिदेशक अनिल पालीवाल ने बताया कि पकड़े गए तीनों युवकाें के आपराधिक रिकॉर्ड खंगाले जा रहे हैं। अभी तक की जांच में इनका कोई आपराधिक रिकॉर्ड सामने नहीं अाया है। पालीवाल ने बताया कि छह सितंबर की सुबह करीब 9 बजे बहरोड़ थाने में एके-47 से फायरिंग कर बदमाश अपने साथी विक्रम उर्फ पपला गुर्जर को लॉकअप से छुड़ा ले गए थे।

 

पपला गुर्जर को भगाने में सहयोगी रहे अलवर जिले के खैरथल थाना क्षेत्र के खरौला गांव निवासी जगन खटाणा (22), किशनगढ़बास के तरवाना हाल खरौला निवासी सुभाष गुर्जर (21) और खरौला निवासी महिपाल गुर्जर (19) को एसओजी ने सोमवार रात गिरफ्तार कर लिया। ये तीनों पपला गुर्जर को थाने से फरार कराने के षड्यंत्र में शामिल थे। आरोपियों से गहनता से पूछताछ की जा रही है।

 

दो पहले से ही गिरफ्तार, सात से पूछताछ
गौरतलब है कि इससे पूर्व एसओजी प्रकरण में जखराना के सरपंच विनोद स्वामी और कैलाश गुर्जर को गिरफ्तार कर चुकी है, जो फिलहाल रिमांड पर हैं। वहीं सात अन्य लोगों को अभी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

 

परिवादियों को भी प्रवेश नहीं
पुलिस मुख्यालय ने पपला गुर्जर प्रकरण में शाहजहांपुर थाने को जांच मुख्यालय बना दिया है। शाहजहांपुर थाना फिलहाल पूर्णतया एसओजी एवं एटीएस अधिकारियों के अधीन है। परिवादियों को भी थाने में घुसने तक की अनुमति नहीं दी गई है। परिवादियों के परिवाद बाहर दरवाजे पर ही लेकर मामला दर्ज करने तक की कार्रवाई की जा रही है। मंगलवार को कई प्रकरणों में परिवादियों की फरियाद बाहर से ही सुनकर उन्हें निपटाते देखा गया। मीडिया कर्मियों को भी थाने के अंदर नहीं जाने दिया। बाहर से फोटो तक नहीं खींचने दिए।

 

बाइक पर बैठाया, अगले ठिकाने पर छोड़ा
एसओजी की अब तक की पड़ताल में सामने आया है कि जगन खटाणा, सुभाष गुर्जर और महिपाल गुर्जर ने पपला को भगाने में सहयोग किया। बदमाश जब पपला को बहरोड़ थाने के लॉकअप से निकालकर भाग रहे थे तो उन्हें रास्ते में बाइक लेकर जगन, सुभाष और महिपाल बाइक लेकर खड़े मिले। इन तीनों ने पांच बदमाशों को बाइक पर बैठाकर ले गए और अगले ठिकाने पर ले जाकर छोड़ा था।

Updated On:
11 Sep 2019, 11:09:15 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।