अच्छी खबर : अलवर में चम्बल का पानी लाने की घोषणा, 4718 करोड़ का बजट तय किया

By: Hiren Joshi

Updated On:
11 Jul 2019, 04:05:16 PM IST

  • chambal river water in alwar : राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट में चम्बल के पानी को अलवर लाने की घोषणा की है।

अलवर. Chambal River water in alwar : पिछली तीन से चार सरकारों के समय से अलवर में चम्बल का पानी ( chambal water ) लाने की घोषणा हो रही है। सरकार बजट भी तय कर देती हैं। लेकिन उसके आगे की प्रक्रिया कागजों से बाहर नहीं आती। लेकिन, इस बार सरकार ने अपने आखिरी बजट की बजाय पहले बजट में अलवर, भतरपुर व धौलपुर क्षेत्र के 14 कस्बे व 3 हजार गांवों तक चम्बल का पानी पहुंचने के लिए बजट में घोषणा की है। जिसके लिए 4 हजार 7 सौ 18 करोड़ रुपए का बजट भी तय किया है। जिससे अब जिले के लोगों को उम्मीद है कि आगामी पांच साल में चम्बल का पानी अलवर आ सकता है। हालांकि अभी सरकार इस्टर्न कैनाल योजना के लिए केन्द्र सरकार से करीब 32 हजार करोड़ रुपए का आग्रह कर रही है।

पहले भी कांग्रेस व भाजपा कर चुकी घोषणा

( rajasthan budget ) अलवर तक चम्बल का पानी लाने की घोषणा पहले भी कांगे्रस व भाजपा सरकार कर चुकी है। पिछली भाजपा सरकार ने 13 जिलों तक चम्बल का पानी पहुंचाने के लिए इस्टर्न कैनाल योजना की घोषणा की लेकिन, धरातल पर कुछ नहीं हो सका। इससे पहले पिछली कांग्रेस की सरकार ने चम्बल का पानी लाने के लिए 5 हजार करोड़ रुपए की योजना की घोषणा की थी। लेकिन बाद में कुछ नहीं हुआ। अब भी केन्द्र सरकार की मदद पर काफी कुछ निर्भर कर रहा है।

पूरा जिला डार्क जोन में

एनसीआर में शामिल पूरा अलवर जिला डार्क जोन में है। यहां बहरोड़, राजगढ़, मुण्डावर, नीमराणा, थानागाजी व बानसूर सहित काफी क्षेत्र में भूजल काफी नीचे चला गया। हालात ये हैं कि राजगढ़ व बहरोड़ में कई जगहों पर भूजल 1500 फीट नीचे पानी चला गया। जिसके कारण खेत भी बंजर हो रहे हैं। कई ऐसे क्षेत्र हैं पानी के अभाव में खेती नहीं हो रही है।

बांध भी सूख गए

लगातार जिले में बारिश कमी के कारण बांध भी सूख गए हैं। सिलीसेढ़ बांध में हमेशा पानी रहता है। इस बार यह बांध भी अधिकतर खाली होता दिख रहा है। जिसके कारण आसपास के क्षेत्र में भी भूजल तेजी से नीचे चला गया। दूसरी तरफ पेजयल को लेकर चौतरफा संकट है। आए दिन पानी मारमारी हो रही है।

कोटकासिम में बनेगी हवाई पट्टी

राज्य बजट में अलवर जिले के कोटकासिम क्षेत्र में हवाई पट्टी निर्माण की घोषणा की गई है। अभी तक जिले में थानागाजी के पास हवाई पट्टी थी, लेकिन मरम्मत के अभाव में यह हवाई पट्टी फिलहाल अनुपयोगी साबित हो रही थी। वर्तमान में जिले में एक भी हवाई पट्टी उपयोगी नहीं होने के कारण सरकार ने कोटकासिम में हवाई पट्टी की घोषणा की है। वहीं मेवात में अल्पसंख्यक बालिकाओं के लिए निर्मित बालिका छात्रावास को शुरू कराने तथा बानसूर में पूर्व स्वीकृत महाविद्यालय के भवन के लिए बजट देने की घोषणा की गई है।

 

Updated On:
11 Jul 2019, 04:05:16 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।