सावधान! अलवर में बिना चेतावनी के बड़ा खतरा, सडक़ की इस तरह कर दी खुदाई, दिन भर लगा रहता है जाम

By: Hiren Joshi

Updated On: Oct, 13 2018 03:03 PM IST

  • https://www.patrika.com/alwar-news/

अलवर. खबर पढकऱ ही सावधान हो जाइए। काली मोरी पुलिया से राजर्षि कॉलेज के बीच बनाई जा रही सडक़ के लिए बेतरतीब गहरी खुदाई कर डाली।

दोनों तरफ चेतावनी बोर्ड व बेरिकेटिंग तक नहीं की गई। करीब 100 मीटर की यह सडक़ पिछले दो साल से उधड़ी पड़ी है। जिम्मेदार विभागों के अधिकारी कभी पानी की लाइन डालने के लिए तोड़ गए तो कभी सीवरेज लाइन डालने के लिए। फिर वापस दुरुस्त ही नहीं कराया। जिससे आए दिन जनता के वाहन धंसते रहे।

आए दिन छोटी बड़ी दुर्घटनाएं होती रही। फिर भी अब सडक़ बनाते समय किसी नियम की पालना नहीं हो रही है। आप खुद ही संभल कर जाएंगे तो बचाव रहेगा।

पहले यहां कई बार सीवर व पानी की लाइन डालने वालों के सडक़ को तोड़ा। बीच-बीच में गहरे गड्ढे तक खुदे रहे। बारिश के दौरान यहां से पैदल तो दूर वाहनों का निकलना मुश्किल हो गया। करीब दो साल से अधिक समय से सडक़ उधड़ी पड़ी है। अब रोड बनाने का काम शुरू किया तो फिर से आधी सडक़ की गहरी खुदाई कर दी। ताज्जुब की बात यह है कि किसी भी तरफ चेतावनी बोर्ड तक नहीं लगाए हैं। जिसके कारण हर दस से बीस मिनट में जाम लग रहा है।
जनता जाम में फंस रही है। अधिकारियों को तनिक परवाह नहीं है। जबकि नियमों की बात करें तो बिना बेरिकेटिंग व चेतावनी बोर्ड के सडक़ को तोडऩे की शुरूआत नहीं की जा सकती है।

सेना के वाहन भी फंस रहे

इसी रोड से ईटाराणा छावनी से शहर आने वाले वाहन निकलते हैं। बड़े वाहन होने के कारण जाम जल्दी लगता है। पानी की लाइनें भी पूरी तरह व्यवस्थित नहीं डाली गई। जिसकी पाले अब खुल रही है।

पहले स्टेशन वाली रोड की सुध नहीं

पहले स्टेशन के सामने करीब 150 मीटर रोड को बनाने में दो से तीन माह लगा दिए। बीच-बीच में बारिश होने के कारण कार्य बाधित रहा। कई बार वाहनं फंसे।
इसी तरह काली मोरी पुलिया से राजर्षि कॉलेज सर्किल के बीच भी दर्जनों बार वाहन फंसे हैं। कभी पानी अधिक भरने के कारण तो कभी सडक़ धंसने से।

Published On:
Oct, 13 2018 03:03 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।