अलवर को साल 2019 में हैं ये 19 उम्मीदें, अगर हो गई पूरी तो विकास की नई ऊंचाइयों को छूएगा अपना अलवर

By: Hiren Joshi

Published On:
Jan, 01 2019 03:13 PM IST

  • अलवर जिले को वर्ष 2019 में 19 उम्मीदें है। अगर ये उम्मीदें पूरी हो जाती है तो अलवर जिला आगे बढ़ सकेगा।

अलवर. वर्ष 2018 में अलवर जिले ने विकास के कई सोपान तय किए, लेकिन बहुत अभी शेष हैं। मंगलवार को नई उम्मीदों के साथ नए साल वर्ष 2019 की शुरुआत होगी। जिलावासियों को नए साल से 19 उम्मीद पूरी होने की उम्मीदें हैं। इन उम्मीदों को पंख लगे तो अलवर जिला विकास की नई ऊंचाइयों को छू सकेगा।

बेहतर स्वास्थ्य के लिए अलवर में हो मेडिकल कॉलेज की शुरुआत।

जिले में पेयजल व सिंचाई की समस्या का निदान के लिए चम्बल का पानी अलवर तक आए।

शिक्षा के क्षेत्र में अलवर नए कीर्तिमान स्थापित कर सके, इसके लिए राजर्षि भर्तृहरि मत्स्य विश्वविद्यालय को खुद का भवन मिले और यहां उच्च स्तरीय अध्ययन की सुविधा मिले।

अलवर का दिल्ली, मुम्बई, जयपुर, जोधपुर सहित अन्य बड़े शहरों से अलवर का हवाई सम्पर्क जुड़ सके, इसके लिए कोटकासिम में एयरपोर्ट की जल्द स्थापना हो।

अलवर को दिल्ली व जयपुर से जोडऩे के लिए मेट्रो रेल सुविधा की शुरुआत हो। हाई स्पीड ट्रेन का प्रोजेक्ट हो साकार।

जिले का भिवाड़ी, बहरोड़, नीमराणा, मुण्डावर, लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र में बिछे रेल लाइन। यात्रियों को मिले रेल सुविधा।

जिले में बड़ी उद्योग इकाइयां स्थापित हो और स्थानीय युवाओं को रोजगार मिले।

अलवर जिले में सडक़ों की हालत में सुधार हो, जिससे सडक़ दुर्घटना में कमी आए और नौनिहालों की जान बच सके।

अलवर शहर समेत पूरे जिले में सफाई की माकूल व्यवस्था हो, कहीं भी कचरे के ढेर नहीं दिखे। सफाई की रैकिंग में अलवर अव्वल नम्बर पर आए।

एमआईए को पुनर्जीवन मिले, उद्यमियों को विशेष पैकेज देकर बड़े उद्यमियों को निवेश के लिए आकर्षित करें।

अलवर शहर ही नहीं, पूरा जिला अतिक्रमण से मुक्त हो, जिससे व्यापार को पंख लग सके।

अलवर में पटरी पार इलाके में बालिकाओं के लिए सीनियर सैकण्डरी स्कूल खुले, जिले में भी बालिका शिक्षा को भी मिले बढ़ावा।

अलवर शहर सहित जिले के शहरी क्षेत्रों में पार्किंग की व्यवस्था हो।

सरिस्का में बाघों का संरक्षण बेहतर तरीके से हो, जिससे अलवर की ख्याति विदेशों तक पहुंचे।

अलवर में मिनी सचिवालय का निर्माण जल्द पूरा हो और सभी सरकारी विभाग एक छत के नीचे शुरू हो।

अलवर, भिवाड़ी में सीईपीटी संयंत्र शुरू हो, जिससे उद्योगों से निकलने वाले दूषित पानी का उपचार हो सके।

अलवर में ट्रैफिक प्लान बने, जिससे शहर की यातायात व्यवस्था में सुधार हो सके।

अलवर में शहरी परिवहन की व्यवस्था हो, जिससे सडक़ों पर बेतरतीब तरीके से दौड़ते वाहनों से लोगों को सुरक्षा मिल सके।

एनसीआर योजना का अलवर जिले को पूरा लाभ मिले, जिससे जिले के विकास को पंख लग सके।

Published On:
Jan, 01 2019 03:13 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।