पुलवामा घटना के विरोध में प्रयागराज में फूटा गुस्सा, लोगों ने कहा- निंदा नहीं कार्रवाई करे सरकार, एक भी आतंकी जिंदा नहीं चाहिए

By: Akhilesh Kumar Tripathi

Updated On: Feb, 15 2019 06:07 PM IST

  • लोगों ने मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की

प्रयागराज. पुलवामा हमले के बाद देशभर में आक्रोश व्याप्त है। शुक्रवार को घटना को लेकर दिनभर प्रदर्शन हुआ । पुराने शहर की जामा मस्जिद में जुमे की नमाज के बाद मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद का नारा लगाया और देश के लिये शहीद होने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी। वही इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ता संघ ने हाईकोर्ट चौराहे पर पाकिस्तान का झण्डा जला कर अपना विरोध दर्ज कराया । लोगों ने मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की । बता दें कि आतंकी हमले में प्रयागराज का एक जवान महेश भी शहीद हुआ था ।

 

Protest against Terrorist attack

 

शहर के बालसन चौराहे पर छात्रों ने पाकिस्तानी हुकूमत के खिलाफ नारे लगाए और पुतला जलाकर अपनी नाराजगी जाहिर की। बता दें कि पुलवामा फिदाइन हमला अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला है। जिसमें 44 से भी ज्यादा सैनिक शहीद हो चुके है। कुंभ मेले के सेक्टर नं 14 में हिंदु जनजागृति समिति लोगों ने प्रदर्शन किया और मांग की सरकार आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करे और एक भी आतंकी जिंदा नहीं रहना चाहिये।

 

Protest against Terrorist attack

 

इस घटना के बाद एक तरफ जहां पाकिस्तान और आतंकवादियों के खिलाफ लोगों में आक्रोश है, वहीं केंद्र की सरकार से तत्काल कार्रवाई की मांग भी लोग कर रहे है। लोगों का कहना है कि सरकार को चुनावी तैयारी छोड़ कर अब एक बार आर-पार की जंग होनी चाहिए।

 

 

 

Protest against Terrorist attack

 

निंदा नहीं चाहिए, एक भी आतंकी जिंदा नहीं चाहिए
जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों पर हुए आतंकी हमले से आक्रोशित हिन्दू संगठन ने कुंभ में सड़क पर उतर कर फिर से सर्जिकल स्ट्राईक करने की मांग की।हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक सद्गुरु डॉ. चारुदत्त पिंगले के नेतृत्व में एकत्र साधु-संतों और समिति कार्यकर्ताओं ने कहा कि आतंकवादी हमले की निंदा करने के बजाए कार्रवाई की जाए; देश पर कुदृष्टि रखने वाले एक भी आतंकी को जिंदा नहीं छोड़ा जाना चाहिए।

कुंभ क्षेत्र स्थित काली-संगम मार्ग चौराहे पर समिति की ओर से किए गए आंदोलन के दौरान सामूहिक रूप से अलगाववादियों से सभी सुविधाएं छीनकर उन्हें जेल भेजने की मांग की गई, आंदोलन में नीलेश सिंगवाल, चेतन राजहंस सहित अन्य समिति सदस्य उपस्थित रहे।

 

BY- PRASOON PANDEY

Published On:
Feb, 15 2019 06:07 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।