आईआईटी कानपुर के चार प्रोफेसरों को हाईकोर्ट से राहत, नहीं दर्ज होगा मुकदमा

By: Akhilesh Kumar Tripathi

Published On:
Sep, 26 2018 10:35 PM IST

 
  • 18 सितम्बर को आयोग ने प्रोफेसरों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश दिया था।

इलाहाबाद. इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कानपुर आईआईटी के चार प्रोफेसरों के खिलाफ एससी-एसटी आयोग द्वारा प्राथमिकी दर्ज कराने के आदेश पर रोक लगा दी है। 18 सितम्बर को आयोग ने प्रोफेसरों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश दिया था।


यह आदेश न्यायमूर्ति पंकज मित्तल तथा न्यायमूर्ति मुख्तार अहमद की खण्डपीठ ने प्रोफेसर राजीव शेखर व अन्य की याचिका पर दिया है। सुब्रह्मण्यम् सदरेसा ने चार प्रोफेसरों राजीव शेखर, ईशान शर्मा, सी.एस उपाध्याय व संजय मित्तल पर दलित उत्पीड़न के आरोप लगाते हुए आयोग से शिकायत की थी। इससे पहले भी ऐसे ही मामले पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी थी। दुबारा शिकायत की गयी। कोर्ट ने प्रोफेसरों को राहत देते हुए राज्य सरकार व आयोग से चार हफ्ते में जवाब मांगा है।

 

BY- Court Corrospondence

Published On:
Sep, 26 2018 10:35 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।