save water: इतना बह गया पानी, भर जाता एक दूसरा आनासागर

By: raktim tiwari

Updated On:
11 Sep 2019, 09:56:42 AM IST

  • इनसे चारों बार करीब सात-आठ दिन लगातार पानी की निकासी हुई है। मौजूदा वक्त भी दो चैनल गेट से पानी निकल रहा है।

रक्तिम तिवारी/अजमेर

तीन महीने में चार बार आनासागर झील (anasagar lake) के चैनल गेट खुल चुके हैं। झील से निकल चुके पानी से अजमेर में नया आनासागर भरा जा सकता था। लेकिन शहर के जनप्रतिनिधि (politicians) और प्रशासनिक अधिकारी (administration) अनमोल पानी को पाल बीसला तालाब या अन्यत्र संरक्षित करने को लेकर बेपरवाह हैं।

1 जुलाई से 11 सितंबर के बीच जिले में ताबड़तोड़ बरसात (heavy rain in ajmer) हुई है। इस दौरान चार बार आनासागर झील का जलस्तर 15 फीट से ज्यादा पहुंच गया। जिला कलक्टर (ajmer collector) के निर्देश पर सिंचाई विभाग (irrigation dpet) ने चार बार इसके चैनल गेट (channel gate) खोले हैं। इनसे चारों बार करीब सात-आठ दिन लगातार पानी की निकासी हुई है। मौजूदा वक्त भी दो चैनल गेट से पानी निकल रहा है।

read more: Rain in ajmer : शहर में कई जगह सडक़ों पर भरा पानी

भर सकता था पालबीसला तालाब
आनासागर से चार बार में 10 से 12 फीट पानी की निकाली हो चुकी है। यह पानी एस्केप चैनल के जरिए खानपुरा तालाब (khan pura pond), पीसांगन (pisangan) होता हुआ गोविंदगढ़ (govind garh) तक पहुंच गया है। लेकिन शहर के बीचों-बीच स्थित पालबीसला तालाब (palbisla pond ) को इसका फायदा नहीं मिल पाया। अव्वल तो पालबीसला पूरी तरह अतिक्रमण (illegal capture) की चपेट में है। तिस पर उसमें आनसागर (anasagar lake) का पानी पहुंचाने के इंतजाम नहीं हैं।

read more: Heavy rain in ajmer: 900 मिलीमीटर हो चुकी बारिश, अजमेर बनाएगा नया रिकॉर्ड

नहीं बना सके नया जलाशय
आनासागर और पालबीसला सदियों पुराने जलाशय हैं। चौरसियावास, फायसागर (foy sagar) और खानपुरा तालाब दो-सौ तीन साल पुराने हैं। दुर्भाग्य से आजादी के बाद सरकार (state govt), स्थानीय प्रशासन (local officials) शहर या इसके आसपास कोई नया जलाशय (new water body) नहीं बना पाए हैं। ऐसा होता तो आनासागर झील सहित शहर में व्यर्थ बहने वाले बरसात के पानी को संरक्षित (rain water conservation) किया जा सकता था।

read more: Water crisis: अजमेर जिले में पानी की कटौती, 72 घंटे होना पड़ेगा परेशान

यूं निकल रहा है पानी
एस्केप चैनल (escape channel)से निकल कर पानी सुभाष उद्यान के सामने नेहरू अस्पताल के यूरॉलीज विभाग के पीछे होकर जयपुर रोड, ब्रह्मपुरी, तोपदड़ा, पालबीचला, जादूघर,अलवर गेट होकर आदर्श नगर पहुंच रहा है। यहां से यह खानपुरा तालाब, पीसांगन और गोविंदगढ़ बांध तक जा पहुंचा है।

read more: Heavy Rain : राजस्थान के इस गांव में बरसाती पानी से घरों में कैद हुए लोग

इस बार कब-कब खुले चैनल गेट
7 जुलाई- गेज 14 फीट
2अगस्त-गेज 15 फीट 11 इंच
17 अगस्त-गेज 15 फीट
7 सितंबर-गेज 15 फीट 6 इंच

Updated On:
11 Sep 2019, 09:56:42 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।