आधार सेंटर स्थापित करने में राजस्थान देश में अव्वल

By: bhupendra singh

Updated On: 25 Aug 2019, 06:37:39 PM IST

  • postelडाक विभाग ने प्रदेश के डाकघरों में स्थापित किए 562 आधार सेंटर

     

अजमेर. आम आदमी के सभी कार्यों तथा योजनाओं के लिए आवश्यक बन चुके आधारकार्ड (aadhar card )बनाने के लिए आधार सेंटर( Aadhaar Center) स्थापित करने के मामले में डाक विभाग राजस्थान देश ( country) में पहले नम्बर (first number) पर (Rajasthan tops ) है। प्रदेश को 600 आधार सेंटर स्थापित करने का लक्ष्य दिया गया था। इसमें से 562 डाकघरों में आधार सेंटर स्थापित हो चुके हैं। आधार सेंटर स्थापना की दर 93.67 प्रतिशत है। देशभर में डाक विभाग ने 13 हजार 352 डाकघरों में आधार सेंटर स्थापित करने का लक्ष्य निर्धारित किया था। इनमें से अब तक 10 हजार 586 आधार सेंटर डाकघरों में स्थपित किया जा चुके है। यह लक्ष्य का 79.28 प्रतिशत है। इन आधार सेंटरों पर नया आधार कार्ड बनवाने के साथ ही संशोधन भी करवाया जा सकता है। आधार कार्ड बनाने के लिए सुबह ही डाकघर में लाइन लग जाती है। अजमेर के मुख्य डाकघर में इसके लिए अलग से व्यवस्था की गई है। राजस्थान के बाद दूसरे नम्बर पर कनार्टक के 92.64 प्रतिशत डाकघरों में आधार सेंटर स्थापित किए जा चुके हैं। तीसरे नम्बर पर तमिलनाडु और चौथे नम्बर पर केरल है। जम्मू-कश्मीर, उत्तर पूर्वी भारत आधार सेंटर स्थापित करने के मामले में अंतिम पायदान पर हैं।

1 लाख 15 हजार खाते हुए पुनर्जीवित
डाक विभाग राजस्थान सर्किल ने बंद पड़े खातों को पुनर्जीवित करने के मामले में भी देशभर में पहला स्थान हासिल किया है। रा’य में डाक विभाग के 1 लाख 15 हजार बंद पड़े खातों को पुनर्जीवित किया गया। मई में 9 हजार 133 खाते पुनर्जीवित हुए। जून में 31 हजार 498 तथा जुलाई माह में 73 हजार 562 खाते पुनर्जीवित किए गए।



आईपीपीबी (ippb)के खाते खोलने में भी ‘बाहुबली’

डाक विभाग की ओर से देशभर में शुरू की गई ‘कौन बनेगा बाहुबली प्रतियोगिता’ में राजस्थान अव्वल रहा है। देशभर में 797 बाहुबली के साथ राजस्थान देश में पहले नम्बर पर रहा। डाक विभाग राजस्थान दक्षिणी क्षेत्र अजमेर में 341 बाहुबली बनाए गए। 162 बाहुबली के साथ केरल दूसरे नम्बर पर रहा। तमिलनाडु 155 बाहुबली के साथ विभाग ने यह प्रतियोगिता 14 जुलाई को शुरु हुई थी। यह प्रतियोगिता 14 अगस्त को समाप्त हुई। इस प्रतियोगिता के तहत ग्रामीण डाक सेवकों (जीडीएस/ बीपीएम/शाखा डाकपाल) को अपने क्षेत्र में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) के तहत कम से कम 100-100 रुपए से 20 ग्राहकों के खाते खुलवाने थे। इन्हें डाक विभाग के बचत खातों से लिंक करवाना था और इनमें 1000-1000 रुपए का डिजिटल पेमेंट भी करवाना था। एेसे करने वाले जीडीएस को विभाग ने 500 रुपए की राशि देकर सम्मानित भी किया। डाक विभाग राजस्थान दक्षिणी क्षेत्र में अजमेर में 145 जीडीएस बाहुबली बने। जबकि भीलवाड़ा में 120, झालावाड़ में 32, चित्तौड़ में 12, टोंक में 12, प्रतापगढ़ में 6, डूंगरपुर में 5, बूंदी में 4, कांकरोली में 2, कोटा, उदयपुर, बारां में 1-1 जीडीएस बाहुबली बने। जबकि बांसवाड़ा में यह संख्या शून्य रही।

आज का बादशाह में चौथा नम्बर

डाक विभाग की ओर से देशभर में शुरु की गई आज का बादशाह प्रतियोगिता में राजस्थान चौथे नम्बर पर रहा है। पहला स्थान मध्य प्रदेश को हासिल हुआ।

read more: सरकारी आदेश के फेर में फंसी 10 हजार मुर्गियां

Updated On:
25 Aug 2019, 06:37:38 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।