Fees Hike: स्कूल चला रहे हैं पेरेंट्स की जेब पर कैंची

By: Anil Kumar

Published On:
Jul, 11 2019 06:28 PM IST

 
  • Fees Hike: इनके द्वारा न्यायालय की भी अवेहलना की जा रही है जिससे भी अभिभावक परिवार पर भारी बोझ बढ़ जाता है।

अजमेर

एनएसयूआई (NSUI) कार्यकर्ताओं ने निजी स्कूल (private school )में फीस बढ़ोतरी को लेकर गुरुवार को प्रदर्शन किया। उन्होंने स्कूल प्रशासन को चेताया कि फीस बढ़ोतरी वापस नहीं ली गई तो आंदोलन किया जाएगा।

एनएसयूआई नेता रियाज खान ने बताया सत्र 2019-20 में प्रत्येक कक्षा की फीस (fees) बढ़ा दी गई है। इससे अभिभावकों की परेशानियां बढ़ गई है। राज्य सरकार के फीस नियामक आयोग बनाने के बावजूद मिशनरी और अन्य स्कूल प्रतिवर्ष फीस बढ़ा रहे हैं। इससे विद्यार्थी और अभिभावकों की आर्थिक स्थिति खराब हो गई है। सुप्रीम कोर्ट (supreme court) और हाईकोर्ट (highcourt) के आदेशानुसार स्कूल ग्रीष्मकालीन अवकाश की फीस नहीं ले सकते, इसके ली जानी चाहिये लेकिन इनके द्वारा न्यायालय की भी अवेहलना की जा रही है जिससे भी अभिभावक परिवार पर भारी बोझ बढ़ जाता है।

read more: एकीकरण में स्कूल बंद कर दिए तो शाला भवन भी हो गए बदहाल

हर साल बढ़ा रहे फीस
खान ने बताया कि फीस बढ़ोतरी को लेकर इन मिशनरी स्कूल की मनमानी हर साल बढ़ रही है जिसका खामियाजा इस बढ़ती भंयकर मंहगाई के दौर में अभिभावक व उनके परिवार को भुगतना पड़ रहा है। ज्ञात हो कि पूर्व में भी सेन्टपॉल स्कूल के प्राचार्य को फीस बढ़ोतरी के लिए ज्ञापन सौपा गया था। इस दौरान मोहित शर्मा, अफजल खान, अजहर पठान, रवि मीणा, मोहम्मद अनीस, गौरव, अरबाज खान, अनिल मुल्चन्दानी, यष वजरानी, नवीन कोमल, गौरव, दर्शन, लियाकत, शहजाद सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे।

read more: वैशालीनगर स्कूल में द्वितीय पारी में हिन्दी मीडियम शुरू कराएं, बच्चों का भविष्य खतरे में

Published On:
Jul, 11 2019 06:28 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।