दरगाह के खादिमों को 75 लाख रुपए के गबन के मामले में नहीं मिली जमानत

By: Amit Kakra

Updated On:
11 Jul 2019, 11:20:06 AM IST

  • एडीजे कोर्ट ने अग्रिम जमानत की नामंजूर

अजमेर.

खादिमों की संस्था अंजुमन यादगार में 75 लाख रुपए के गबन के मामले में पूर्व कमेटी के सदस्य शेखजादा सफी मोहम्मद की अग्रिम जमानत को अतिरिक्त जिला सत्र न्यायाधीश-3 ने नामंजूर कर दिया। प्रकरण में अभी दरगाह थाना पुलिस को सात जनों की तलाश है।

अधिवक्ता एहतेश्याम चिश्ती ने बताया कि अंजुमन यादगार के पूर्व सदस्य शेखजादा सफी मोहम्मद ने गबन के मामले में कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका पेश की थी, लेकिन अदालत ने याचिका को खारिज कर दिया। पुलिस ने मामले में 22 जून को पूर्व अध्यक्ष मोहम्मद आरिफ चिश्ती व कोषाध्यक्ष अजीम मोहम्मद को गिरफ्तार किया था। उनके खिलाफ अंजुमन यादगार के वर्तमान अध्यक्ष अब्दुल जर्रार चिश्ती, सचिव अब्दुल माजिद चिश्ती ने 11 जनवरी 2019 को दरगाह थाने में पूर्व पदाधिकारियों पर 75 लाख रुपए के गबन का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया था।

Read More- School Van चलाते है तो चैक करा ले अपनी आंखे, कमजोर हुई तो नहीं चला सकेंगे बालवाहिनी

यह है मामला

एहतेशाम चिश्ती ने बताया कि 14 मार्च 2017 को चुनाव हुए थे। इसमें तत्कालीन अध्यक्ष मोहम्मद आरिफ चिश्ती की कमेटी चुनाव हार गई। तत्कालीन पदाधिकारियों ने 15 से 31 मार्च के बीच अंजुमन के खाते से 75 लाख रुपए निकाल लिए। वहीं 2 अप्रेल को वर्तमान अध्यक्ष अब्दुल जर्रार चिश्ती व सचिव अब्दुल माजिद चिश्ती ने बैंक स्टेटमेंट निकालने पर गबन की जानकारी मिली। उनके नोटिस देने पर भी पूर्व पदाधिकारियों ने जवाब दिया न ही विधिवत रूप से नई कमेटी को चार्ज दिया। बाद में कोर्ट में इस्तगासा पेश किया गया। कोर्ट के आदेश से मामला दर्ज कराया गया।

 

Updated On:
11 Jul 2019, 11:20:06 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।