नागा बाबा बन ठगी करने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार

By: nagendra singh rathore

Published On:
Sep, 12 2018 11:26 PM IST

  • युवक को बेहोश कर अंगूठी, माला ठग ले गए थे आरोपी

     

अहमदाबाद. नागा बाबा बनकर कार में पीछे वाली सीट पर बैठने के बाद कार चालक की ओर से वाहन चालकों से पता पूछने के बहाने उनका ध्यान आकर्षित करने के बाद बाबा के दर्शन करने का कहकर वाहन चालकों से ठगी करने वाले गिरोह के दो सदस्यों को जिले की कोठ पुलिस ने पकड़ा है।
गिरफ्तार आरोपियों में गांधीनगर जिले की दहेगाम तहसील के मदारीनगर निवासी अरजण भरवाड़ और इस गिरोह की ओर से ठगी गई सोने की अंगूठी व माला खरीदने वाला सोनी असारवा निवासी सुमित सोनी शामिल है। इस मामले में नागा बाबा बनकर कार में पीछे वाली सीट पर बैठने वाला गांधीनगर जिले की दहेगाम तहसील के मदारीनगर निवासी वनराज उर्फ बनानाथ उर्फ बनियो मदारी फरार है।
कोठ पुलिस के अनुसार इस गिरोह ने बीते माह १५ जुलाई २०१८ को धंधुका तहसील के खरोळ गांव निवासी लाखूभाई वाळा को अरणेज से जवारज जाने वाले मार्ग पर रोका। कार में अरजण भरवाड़ और वनराज मदारी था। वनराज कार में पीछे नागा बाबा के वेश में बैठा था। आगे रोड पर बुलेट लेकर जा रहे लाखूभाई को ओवरटेक करके अरजण ने लाखू की बाइक के आगे कार खड़ी की और कलीकुंड जाने का रास्ता पूछा। फिर नीचे उतरकर पास आते हुए कहा कि कार में नागा बाबा बैठे हैं। दर्शन कर लो। लाखू ने नागा बाबा के पास जाकर दर्शन किए। पहले तो बाबा बने वनराज ने एक रुपए की मांग की, लेकिन एक रुपए नहीं होने से लाखू ने दस रुपए का नोट दिया, जिसे बाबा ने लेने से इनकार कर दिया। कहा कि जमीन से कंकड़़ उठाकर दे दो। जिससे लाखू ने जमीन से कंकड़ उठाकर बाबा को दिया। इस पर बाबा ने हाथ पर एक फूल रखा और उसे माथे से लगाने को कहा जैसे ही लाखू ने फूल को माथे से लगाया वह बेहोश हो गया। सुध आने पर पता चला कि उसके हाथ से अंगूठी और गले से सोने के मोतियों वाली माला गायब है। उसने कोठ थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

Published On:
Sep, 12 2018 11:26 PM IST