Craze in English medium BA in Psychology गुजरात विश्वविद्यालय: अंग्रेजी माध्यम में मनोविज्ञान से बीए का क्रेज

By: nagendra singh rathore

Published On:
Jun, 26 2019 09:51 PM IST

  • पहले चरण में एल.डी.आट्र्स में ८३ प्रतिशत और भवन्स आट्र्स कॉलेज में 81 प्रतिशत पर रुका जनरल केटेगरी का प्रवेश

     

नगेन्द्र सिंह

अहमदाबाद. विद्यार्थियों में गुजरात विश्वविद्यालय (जीयू)से अंग्रेजी माध्यम में मनोविज्ञान (साइकोलॉजी) विषय के साथ बैचलर ऑफ आट्र्स (बीए) की पढ़ाई का क्रेज देखने को मिल रहा है। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि एल.डी.आट्र्स कॉलेज के अंग्रेजी माध्यम से मनोविज्ञान में बीए का दाखिला ८३ प्रतिशत पर रुक गया। इससे कम अंक वाले विद्यार्थियों को पहले चरण में प्रवेश ही नहीं मिल सका।
कुछ ऐसी ही स्थिति दूसरे कॉलेज भवन्स कॉलेज (शेठ आर.ए.कॉलेज ऑफ आट्र्स एंड कॉमर्स) में देखने को मिली। इस कॉलेज में पहले चरण में जनरल केटेगरी के विद्यार्थियों के लिए ८१ प्रतिशत पर प्रवेश रुक गया।
इसके अलावा इस कोर्स के क्रेज का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सका है कि इसमें विदेशी विद्यार्थी भी प्रवेश ले रहे हैं। आट्र्स विषय के साथ 12वीं कक्षा की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों के साथ-साथ विज्ञान के विषयों के साथ 12वीं की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थी भी इस विषय से बीए करने को आगे आ रहे हैं।
इसकी मुख्य वजह यह है कि जीयू में सिर्फ दो कॉलेजों में ही अंग्रेजी माध्यम में मनोविज्ञान विषय के साथ बीए की पढ़ाई कराई जाती है। इनमें सिर्फ ३०-३० ही सीटें हैं। फिर बीते कुछ समय से मनोविज्ञान के पराशर्मकों (काउंसलर्स) की स्कूलों, अस्पतालों में और जेलों सहित अन्य क्षेत्रों में मांग बढ़ी है। रोजगार के लिहाज से भी यह कोर्स काफी फायदेमंद साबित हो रहा है।

सीमित सीटें और मांग है ज्यादा

जीयू में बीए की मांग जिन विषयों में है उन विषयों के लिहाज से देखा जाए तो मनोविज्ञान दूसरे स्थान पर है। इसमें भी यदि अंग्रेजी माध्यम में मनोविज्ञान से बीए की बात करें तो केवल दो कॉलेज जीयू में हैं। इस कारण सीटें सीमित हैं और मांग ज्यादा होने के कारण पहले चरण में कट ऑफ ८३ से ८१ प्रतिशत पर है। अच्छे अंक से 12वीं पास करने वाले विद्यार्थी यह कोर्स कर रहे हैं। अंग्रेजी माध्यम से मनोविज्ञान में बीए करने वालों को विदेश में भी प्रैक्टिस का मौका रहता है। भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव बढ़ा है, जिससे काउंसलर्स की मांग भी बढ़ी है।

-प्रो.जयेश सोलंकी, ओएसडी, बीए प्रवेश समिति, जीयू

स्कूल, हॉस्पिटल, जेल में काउंसलर्स की बढ़ी मांग

अंग्रेजी माध्यम में मनोविज्ञान में बीए का क्रेज बीते छह-सात वर्षों से देखने को मिल रहा है। भवन्स कॉलेज में पांच विदेशी विद्यार्थी भी मनोविज्ञान से बीए की पढ़ाई कर रहे हैं। वर्ष २०१८ में इस कॉलेज में ६७ फीसदी अंक पर प्रवेश रुका था। बीते वर्ष २० और सीटें जीयू से मंजूरी लेकर बढ़ाई गई थीं। इस कोर्स के साथ फ्रेंच और कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई इस कॉलेज में कराई जाती है, जिससे विदेशी विद्यार्थी भी इस कॉलेज में प्रवेश ले रहे हैं। स्कूलों, हॉस्पिटलों, जेलों में भी मनोविज्ञान काउंसलर्स की मांग बीते कुछ सालों में बढ़ी है। इस कारण इस कोर्स में 12वीं विज्ञान उत्तीर्ण विद्यार्थी ज्यादातर प्रवेश ले रहे हैं।

-डॉ. नीरजा अरुण, प्राचार्य, भवन्स आट्र्स कॉलेज

Published On:
Jun, 26 2019 09:51 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।