Neurotrauma 2019: बीपी की ये दवाएं हैं बुजुर्गों के लिए घातक, सर्जरी में होती है मुश्किल

By: Dhirendra yadav

Updated On:
25 Aug 2019, 05:07:07 PM IST

 
  • न्यूरोसर्जनन डॉ. निशांत याग्निक ने दी महत्वपूर्ण जानकारी

आगरा। न्यूरोट्रोमा 2019 में युवा न्यूरोसर्जन डॉ. निशांत एस याग्निक ने बुजुर्गों के ब्रेन में क्रोनिक एसडीएच पर शोध प्रस्तुत किया। डॉक्टर ने बताया कि 60 साल से अधिक उम्र के व्यक्त्यिों में हल्की हल्की चोटों से भी दिमाग में खून का थक्का जम जाता है। अगर उन्हें ब्लड प्रेशर रहता है और वे बीपी के लिए खून पता करने की दवाएं ले रहे हैं, तो ऐसे में खून का थक्का जमने पर उनकी ब्रेन सर्जरी मुश्किल हो जाती है। क्योंकि खून का बहना नहीं रुकता है। खून पतला करने की दवा उनके लिए घातक हैं। एक बार अगर इनकी सर्जरी हो जाए तो दोबारा सर्जरी का चांस नहीं रहता है।

Updated On:
25 Aug 2019, 05:07:07 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।