ऐसा क्या हुआ जो खोल दिया सीएमओ के खिलाफ मोर्चा

By: Rishi Sharma

Updated On:
05 Apr 2017, 01:23:00 AM IST

  • रैली निकालकर सौंपा ज्ञापन, पद से हटाने की मांग
ऐसा क्या हुआ जो खोल दिया सीएमओ के खिलाफ मोर्चा
रैली निकालकर सौंपा ज्ञापन, पद से हटाने की मांग
आगर-मालवा. समन्वय के अभाव में दिन-प्रतिदिन विकास के क्षेत्र में पिछड़ती जा रही नगर पालिका में अब अधिकारी-कर्मचारी की तनातनी खुलकर सतह पर आती हुई दिखाई देने लगी। मंगलवार को विभिन्न कर्मचारी संगठनों एवं नपा कर्मचारियों ने लामबंद होते हुए सीएमओ महेन्द्र वशिष्ठ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। कर्मचारियों ने नपा कार्यालय परिसर में जमकर नारेबाजी करते हुए शहर में एक रैली निकाली और नपाध्यक्ष शकुंतला जायसवाल, संयुक्त कलेक्टर वर्षा भूरिया, कोतवाली थाना तथा हरिजन थाने पर ज्ञापन प्रस्तुत कर सीएमओ के विरुद्ध कार्रवाई एवं उन्हे हटाने की मांग की।
ज्ञापन में कर्मचारियों ने बताया कि वाल्मीकि समाज के कर्मचारी जसवंत नरवाल के साथ सीएमओ ने द्वेष रखते हुए परेशान कर मानसिक रूप से प्रताडि़त किया जा रहा है। मुख्य लिपिक के पद पर पदस्थ नरवाल को व्यक्तिगत रूप से प्रताडि़त करते हुए कार्यालय में काम नहीं करने देने तथा इनका कार्य अन्य कर्मचारियों से करवाने, 6 माह तक वेतन रोकने, गलत जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को देकर अपमानित करवाने तथा चैत्र नवरात्री में गुफाबर्डा मेले नहीं करवाने का दोषी ठहराया।  इसी प्रकार अन्य कर्मचारियों को भी परेशान करने व उनकी मांगो का निराकरण नही किए जाने से सभी सफाई कर्मचारियों तथा अजजा कर्मचारियों में काफी रोष व्याप्त है। 
कर्मचारियों ने आरोप लगाया  कि सीएमओ ने नगर पालिका अधिनियम एवं नियमों का उल्लंघन किया। महिला अध्यक्ष आए दिन विवाद करने एवं पार्षदों को गुमराह कर आपस में विवाद करवाया जिससे शहर में विकास कार्य ठप पड़ गया है। शासन की योजनाओं का क्रियान्वयन नहीं हो रहा है। इन्हे नहीं हटाया गया तो कर्मचारी उग्र आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे। कर्मचारियों ने एट्रोसिटी एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग भी की है। 
इस अवसर पर अजाक्स जिलाध्यक्ष जेसी बेगाना, अजाक्स महिला अध्यक्ष सुनिता सोलंकी, चौथमल तंवर, अपाक्स जिलाध्यक्ष जलील खॉ मुल्तानी, कर्मचारी कांग्रेस जिलाध्यक्ष रमेशचंद बेगाना, सफाई कर्मचारी संघ जिलाध्यक्ष महेश नरवाल, दिलीप गौरे, जसवंत नरवाल, दुलीचंद नरवाल, मनोहर डुलगज, कन्हैयालाल तंवर, नरेन्द्र तंवर, अशोक नरवाल, अर्जुन सिंह सहित अनेक महिला कर्मचारी मौजूद थे।
कैसे रफ्तार पकड़ेगा शहर?
शहर की तमाम व्यवस्थाओं को सुचारू रखने का जिम्मा नगर पालिका का होता है लेकिन वर्तमान परिषद में निर्मित हो रहे हालातों से अब शहरवासी भी चिंतित होते दिखाई दे रहे है। अध्यक्ष एवं सीएमओ के बीच परस्पर समन्वय न होने का मामला तो कई दिनों से सुर्खियों में चल ही रहा था कि अब कर्मचारी एवं सीएमओ में भी ठनती हुई दिखाई दे रही है। कुछ अवसरवादी  लोग अपने-अपने स्वार्थ के चलते किसी भी प्रकार की सुलह होने ही नहीं दे रहे है। इसका खामियाजा आम लोगों को उठाना पड़ रहा है। करोड़ों रुपए के विकास कार्यो की कार्ययोजनाएं तैयार हैं और करोड़ो रुपए के कार्य स्वीकृत हो चुके हैं लेकिन धरातल पर कोई बड़ा विकास कार्य रफ्तार नही पकड़ रहा है।
सीएमओ मुझे हर मामले में द्वेषता पूर्वक परेशान करे रहे हैं। साथ ही अन्य कर्मचारियों को भी इसी प्रकार प्रताडि़त किया गया है ।अब कर्मचारी अधिक परेशान हो गए और अपना हक मांगने के लिए एकत्रित हुए हैं। सभी कर्मचारियों द्वारा ज्ञापन सौंपा      गया है। 
जसवंत नरवाल, मुख्य लिपिक नपा आगर
हमारे द्वारा किसी के साथ कोई द्वेषता नहीं रखी जा रही है। बेवजह जनता व पार्षदों को गुमराह किया जा रहा है ।कौन कितना काम करता है यह शहर की जनता जानती है। जो आरोप लगाए जा रहे है वो निराधार है।
महेंद्र वशिष्ठ, सीएमओ नपा आगरऐसा क्या हुआ जो खोल दिया सीएमओ के खिलाफ मोर्चा
रैली निकालकर सौंपा ज्ञापन, पद से हटाने की मांग
आगर-मालवा. समन्वय के अभाव में दिन-प्रतिदिन विकास के क्षेत्र में पिछड़ती जा रही नगर पालिका में अब अधिकारी-कर्मचारी की तनातनी खुलकर सतह पर आती हुई दिखाई देने लगी। मंगलवार को विभिन्न कर्मचारी संगठनों एवं नपा कर्मचारियों ने लामबंद होते हुए सीएमओ महेन्द्र वशिष्ठ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। कर्मचारियों ने नपा कार्यालय परिसर में जमकर नारेबाजी करते हुए शहर में एक रैली निकाली और नपाध्यक्ष शकुंतला जायसवाल, संयुक्त कलेक्टर वर्षा भूरिया, कोतवाली थाना तथा हरिजन थाने पर ज्ञापन प्रस्तुत कर सीएमओ के विरुद्ध कार्रवाई एवं उन्हे हटाने की मांग की।
ज्ञापन में कर्मचारियों ने बताया कि वाल्मीकि समाज के कर्मचारी जसवंत नरवाल के साथ सीएमओ ने द्वेष रखते हुए परेशान कर मानसिक रूप से प्रताडि़त किया जा रहा है। मुख्य लिपिक के पद पर पदस्थ नरवाल को व्यक्तिगत रूप से प्रताडि़त करते हुए कार्यालय में काम नहीं करने देने तथा इनका कार्य अन्य कर्मचारियों से करवाने, 6 माह तक वेतन रोकने, गलत जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को देकर अपमानित करवाने तथा चैत्र नवरात्री में गुफाबर्डा मेले नहीं करवाने का दोषी ठहराया।  इसी प्रकार अन्य कर्मचारियों को भी परेशान करने व उनकी मांगो का निराकरण नही किए जाने से सभी सफाई कर्मचारियों तथा अजजा कर्मचारियों में काफी रोष व्याप्त है। 
कर्मचारियों ने आरोप लगाया  कि सीएमओ ने नगर पालिका अधिनियम एवं नियमों का उल्लंघन किया। महिला अध्यक्ष आए दिन विवाद करने एवं पार्षदों को गुमराह कर आपस में विवाद करवाया जिससे शहर में विकास कार्य ठप पड़ गया है। शासन की योजनाओं का क्रियान्वयन नहीं हो रहा है। इन्हे नहीं हटाया गया तो कर्मचारी उग्र आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे। कर्मचारियों ने एट्रोसिटी एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग भी की है। 
इस अवसर पर अजाक्स जिलाध्यक्ष जेसी बेगाना, अजाक्स महिला अध्यक्ष सुनिता सोलंकी, चौथमल तंवर, अपाक्स जिलाध्यक्ष जलील खॉ मुल्तानी, कर्मचारी कांग्रेस जिलाध्यक्ष रमेशचंद बेगाना, सफाई कर्मचारी संघ जिलाध्यक्ष महेश नरवाल, दिलीप गौरे, जसवंत नरवाल, दुलीचंद नरवाल, मनोहर डुलगज, कन्हैयालाल तंवर, नरेन्द्र तंवर, अशोक नरवाल, अर्जुन सिंह सहित अनेक महिला कर्मचारी मौजूद थे।
कैसे रफ्तार पकड़ेगा शहर?
शहर की तमाम व्यवस्थाओं को सुचारू रखने का जिम्मा नगर पालिका का होता है लेकिन वर्तमान परिषद में निर्मित हो रहे हालातों से अब शहरवासी भी चिंतित होते दिखाई दे रहे है। अध्यक्ष एवं सीएमओ के बीच परस्पर समन्वय न होने का मामला तो कई दिनों से सुर्खियों में चल ही रहा था कि अब कर्मचारी एवं सीएमओ में भी ठनती हुई दिखाई दे रही है। कुछ अवसरवादी  लोग अपने-अपने स्वार्थ के चलते किसी भी प्रकार की सुलह होने ही नहीं दे रहे है। इसका खामियाजा आम लोगों को उठाना पड़ रहा है। करोड़ों रुपए के विकास कार्यो की कार्ययोजनाएं तैयार हैं और करोड़ो रुपए के कार्य स्वीकृत हो चुके हैं लेकिन धरातल पर कोई बड़ा विकास कार्य रफ्तार नही पकड़ रहा है।
सीएमओ मुझे हर मामले में द्वेषता पूर्वक परेशान करे रहे हैं। साथ ही अन्य कर्मचारियों को भी इसी प्रकार प्रताडि़त किया गया है ।अब कर्मचारी अधिक परेशान हो गए और अपना हक मांगने के लिए एकत्रित हुए हैं। सभी कर्मचारियों द्वारा ज्ञापन सौंपा      गया है। 
जसवंत नरवाल, मुख्य लिपिक नपा आगर
हमारे द्वारा किसी के साथ कोई द्वेषता नहीं रखी जा रही है। बेवजह जनता व पार्षदों को गुमराह किया जा रहा है ।कौन कितना काम करता है यह शहर की जनता जानती है। जो आरोप लगाए जा रहे है वो निराधार है।
महेंद्र वशिष्ठ, सीएमओ नपा आगर

Updated On:
05 Apr 2017, 01:23:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।