अल्जीरिया: राष्ट्रपति अब्देल अजीज बुटफ़्लिका ने पेश किया इस्तीफा, 28 अप्रैल तक छोड़ेंगे पद

By: Anil Kumar

Updated On: Apr, 02 2019 11:06 AM IST

    • राष्ट्रपति अब्देल अजीज बुटफ़्लिका के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन।
    • विरोध-प्रदर्शन के बाद अब्देल अजीज बुटफ़्लिका ने दिया इस्तीफा।
    • 1999 से राष्ट्रपति पद पर काबिज हैं अब्देल अजीज बुटफ़्लिका।

     

अल्जीयर्स। अल्जीरिया के राष्ट्रपति अब्देल अजीज बुटफ़्लिका आगामी 28 अप्रैल से पहले अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। इस बाबत सरकार की ओर से सोमवार को जारी एक बयान में बताया गया है कि राष्ट्रपति अब्देल अजीज बुटफ़्लिका अपनी चौथा कार्यकाल पूरा करने से पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। बयान में आगे कहा गया है कि राष्ट्रपति इस्तीफा देने से पहले यह निर्धारित करेंगे की संक्रमण काल के दौरान सभी संवैधानिक संस्थाएं सुचारु रूप से चलते रहें और अपना नियमित काम भी करते रहें। साथ ही यह भी बताया गया कि 28 अप्रैल से पहले वे अपना इस्तीफा दे देंगे।

अल्‍जीरियाई राष्‍ट्रपति अब्‍देलअजीज बुटफ्लिका के खिलाफ छात्रों का उग्र प्रदर्शन, सभी विश्‍वविद्यालय बंद

राष्ट्रपति अब्देलाजीज बुटफ़्लिका के खिलाफ लोगों में गुस्सा

बता दें कि 82 वर्षीय राष्ट्रपति अब्देल अजीज बुटफ़्लिका के खिलाफ पूरे अल्जीरिया के लोगों में गुस्सा है। लोग सड़कों पर निकल कर उनके खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। करीब 20 वर्षों से राष्ट्रपति अब्देल अजीज बुटफ़्लिका सत्ता में काबिज हैं। आरोप है कि 2013 के बाद से बहुत कम बार ऐसा हुआ होगा कि उन्हें लोगों ने देखा होगा। राष्ट्रपति अब्देल अजीज बुटफ़्लिका ने पांचवीं बार राष्ट्रपति बनने के लिए आगामी आम चुनाव में अपनी उम्मीदवारी की घोषणा की थी, लेकिन विरोध होने के बाद 11 मार्च को उन्होंने अपने नाम को वापस ले लिया और चुनाव को आगामी 18 अप्रैल तक के लिए टाल दिया। बता दें कि अब्देल अजीज बुटफ़्लिका पहली बार 1999 में अलिजीरिया के पांचवें राष्ट्रपति बने थे।

अल्जीरिया: राष्ट्रपति ने पांचवीं बार पेश की सत्ता की दावेदारी, गुस्साए लोगों ने किया प्रदर्शन, 45 गिरफ्तार

इस्तीफे की घोषणा के बाद भी प्रदर्शन जारी

मालूम हो कि राष्ट्रपति बुटफ़्लिका के इस्तीफे की घोषणा के बावजूद भी राजधानी अल्जीयर्स में के अलावा पूरे देश में हजारों की संख्या में विद्यार्थियों ने प्रदर्शन किया। साथ ही सोशल साइट पर इसको लेकर अभियान भी चलाया। अल्जीयर्स में विद्यार्थी संघ के एक सदस्य मोहम्मद ने कहा कि बुटफ़्लिका का पद छोड़ना ही काफी नहीं है। इससे कुछ भी नहीं बदलेगा। उन्होंने केवल पद छोड़ा है, पर सत्ता में बने हुए हैं, जो कि 1962 और आजादी के बाद से अल्जीरिया में शासन कर रहा है। मोहम्मद ने कहा कि हम केवल उन्हें सत्ता से हटाने के लिए प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं बल्कि परिवर्तन कर एक नई राजनीतिक व्यवस्था को बनाने के लिए कर रहे हैं।

 

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.

Published On:
Apr, 02 2019 06:20 AM IST

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।