> > > >Mahakala Kumbha brought another!

सिंहस्थ में ले आए एक और महाकाल!

2016-04-28 04:15:55


सिंहस्थ में ले आए एक और महाकाल!
उदयपुर।छह महीने पले नासिक कुंभ में दर्शन के लिए गए मेवाड़ के एक भक्त को त्र्यम्बकेश्वर के दर्शन नहीं हो पाए। इससे आहत इस भक्त ने उज्जैन के कुंभ मेले में दूसरे भक्तों को परेशानी नहीं हो इसके लिए महाकालेश्वर की प्रतिकृति ही बना दी। इसमें 20 किलो चांदी की जरेली के साथ नर्बदा नदी के पाषाण से बने शिवलिंग की स्थापना की गई है। सिंहस्थ के लिए तैयार किए विशेष मंदिर में प्रतिदिन महाकालेश्वर मंदिर जैसे सारे अनुष्ठान और शृंगार किए जा रहे हैं। इसके साथ ही रोजाना रुद्राभिषेक हो रहा है। फिलहाल एेसा अभिषेक नेपाल स्थित पशुपतिनाथ मंदिर में होता है। उदयपुर जिले के वाना निवासी भंवर धीरज पानेरी (30) ने बताया, नासिक गया तो त्र्यम्बकेश्वर मंदिर में दर्शन नहीं हो पाए। एेसे में वहीं प्रण लिया कि उज्जैन कुंभ में मेरी जैसी परेशानी को दूसरे भक्त नहीं भोगेंगे। 20 अप्रेल से शुरू किए मंदिर में एक माह तक नियमित पूजा और अनुष्ठान होंगे। करीब दो हजार स्क्वॉयर फीट पर इस मंदिर का निर्माण किया गया है।

जमा पूंजी के साथ बेची सम्पत्ति

धीरज ने कुंभ मेले में महाकालेश्वर मंदिर बनाने के लिए अपनी जमा पूंजी लगा दी। राशि कम पड़ी तो कुछ सम्पत्ति बेच दी। चार माह पूर्व उज्जैन पहुंच गए। उन्होंने बीस साथियों के साथ मिलकर मंदिर को तैयार करवाया। मंदिर में चांदी से बनी सवा आठ गुणा-सवा आठ गुणा की जरेली पर लाल पत्थर से बना शिवलिंग स्थापित किया गया है।

11.25 लाख रुद्राक्ष से अभिषेक

अभिषेक के लिए 11.25 लाख रुद्राक्ष नेपाल और इंडोनेशिया से मंगवाए हैं। इसकी लागत 44 लाख रुपए आई है। यह राशि धीरज के साथ देश के विभिन्न क्षेत्रों के करीब 20 युवा भक्तों ने जुटाई है। मंदिर में सुबह शिप्रा के जल और शाम को पुष्प और रुद्राक्ष से पूजन किया जा रहा है। अब तक आठ हजार लोगों ने यहां अभिषेक किया है। अभिषेक करने वाले सभी भक्तों के नाम, पते अंकित करने के साथ उन्हें नि:शुल्क रुद्राक्ष भी दिए जा रहे हैं।

48 लाख में बनी चांदी की जरेली: धीरज ने बताया कि चांदी की जरेली बनाने में 48 लाख रुपए की लागत आई। इस पर महाकालेश्वर मंदिर की जरेली के समान कलाकारी है। कलाकारों ने हाथों से कार्य करने के एवज में प्रति किलो दो लाख रुपए मेहनताना लिया है। जरेली के साथ चांदी का नंदी, दीपदान, त्रिशूल, छत्र, नाग आदि हैं।

धीरेन्द्र जोशी

LIVE CRICKET SCORE

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

X