> > > >garun puran secrets for womens in hindi

महिलाओं को भूलकर भी नहीं करने चाहिए ये काम, गरुण पुराण में बताया है ये रहस्य

2017-03-15 07:54:17


महिलाओं को भूलकर भी नहीं करने चाहिए ये काम, गरुण पुराण में बताया है ये रहस्य<br>
जबलपुर। महिलाएं वंदनीय एवं पूजनिय हैं। उनका सम्मान सदा बना रहे इसके लिए गरुड़ पुराण में वर्णित है कि महिलाओं को 4 बातें अपने जीवन में अपनानी चाहिए। घर-गृहस्थी हो या सामाजिक जीवन दोनों जगह ही महिलाओं की भूमिका अहम है। शादी के उपरांत पत्नी को सदा पति के साथ ही रहना चाहिए।अधिक दिनों तक उनसे दूर नहीं रहना चाहिए। पति व्यापार संबंधित काम के लिए विदेश चला जाए तो स्त्री मानसिक रूप से कमजोर पड़ जाती है क्योंकि पति की अनुपस्थिती में उसे बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जीवनसाथी का संग होने से स्त्री सशक्त और सुरक्षित रहती है।
ऐसे शुरू हुई श्मशान से लौटकर नहाने की प्रथा, आप भी जानें वजह
1-समाज में महिलाएं कभी भी स्वतंत्र रूप से निर्वाह नहीं कर पाई हैं। शास्त्रों के अनुसार बचपन में उन्हें पिता का, जवानी में पति का और वृद्धावस्था में पुत्र के साथ की अवश्यकता होती है। जब नारी किसी पुरुष के साथ रहती है तो वह उसकी शक्ति भी बन जाती है, इसलिए अकेला रहना उसके लिए उचित नहीं मन गया है।
2-महिलाएं जीवन के किसी भी पड़ाव पर चरित्रहीन लोगों का संग न करें अन्यथा भविष्य में उन्हें असुरक्षा, अपयश और अपमान का सामना करना पड़ेगा। महिलाओं का चरित्रबल संसार में सभी बलों में श्रेष्ठ और सब संपत्तियों में मूल्यवान संपत्ति है। चरित्रवान स्त्री की आत्मा उज्जवल एवं बलिष्ठ होती है। महिलाओं का चरित्र ही उनके लिए अमर उपलब्धि है। तभी तो वह नारी से देवी बन जाती हैं।
READ MUST-
बहन पढ़ाने खुद को बेचने तैयार हो गया ये भाई, भाई-दूज पर पढ़ें ये सच्ची कहानी
लौंग के तेल को सूंघने से खुल जाती है बंद नाक, जानें ऐसे ही 10 फायदे
3-जीवन को सुचारू रूप से चलाने के लिए सुख और आनंद ऐसे इत्र हैं, जिन्हें जितना अधिक दूसरों पर छिड़केंगे, उतनी ही सुगंध आपके भीतर समाएगी। दूसरों के प्रति प्रेम भाव, सेवा-परोपकार, उदारता और मधुरता का व्यवहार मानव जीवन को तनाव से मुक्त कर देता है लेकिन ऐसा ही व्यवहार आपका अपने पारिवारिक सदस्यों के प्रति होगा तो सोने पे सुहागे का काम करेगा।
4-महिलाओं को कभी भी किसी पराए घर में नहीं रहना चाहिए। जो स्त्री पराए घर में रहती है उसे समाज में गलत न होते हुए भी गलत समझा जाता है। देवी सीता के अग्नि परिक्षा देने पर भी समाज ने उन पर बहुत से आरोप लगाएं। श्रीराम को अपनी प्राण प्रिया को स्वयं से अलग करना पड़ा।
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

Related News

Photo Icon नरक में ढकेलते हैं ये 17 पाप, भूलकर भी न करें ये गलती

दशहरे पर जरूर करें शस्त्र पूजन, पर जरा संभलकर

इस मंत्र से मरा व्यक्ति हो जाता है जिन्दा

LIVE CRICKET SCORE

पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

X