> > > >Broken deadlock on the third day in VIS

तीसरे दिन विस में टूटा गतिरोध

2017-03-21 05:40:16


तीसरे दिन विस में टूटा गतिरोध
बेंगलूरु।डायरी मसले पर चर्चा की मांग को लेकर पिछले तीन दिनों से विधानसभा में चल रहा गतिरोध सोमवार को टूट गया। विधानसभा अध्यक्ष के. बी. कोलीवाड की अपील पर मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा ने धरना वापस ले लिया। हालांकि,इससे पहले सत्तारुढ़ कांग्रेस और भाजपा के सदस्यों के आरोप-प्रत्यारोप के कारण सदन में हंगामे की स्थिति बनी रही।

सुबह जैसे ही सदन की बैठक शुरु हुई भाजपा के सदस्यों ने अध्यक्ष के आसन के सामने इकट्ठे होकर धरना देना जारी रखा। विपक्ष के नेता जगदीश शेट्टर ने कहा कि राज्य सरकार को डायरी प्रकरण की जांच के आदेश देना चाहिए क्योंकि डायरी से कांग्रेस नेताओं के बीच करोड़ों के लेन-देन की बात उजागर हुई है।

मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने शेट्टर के आरोप पर पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा को भ्रष्टाचार का मसला उठाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है क्योंकि प्रदेश ेके लोग इस बात को अच्छी तरह से जानते हैं कि उनके शासनकाल में राज्य में क्या-क्या हुआ था और भाजपा के तत्कालीन मुख्यमंत्री बी.एस. येड्डियूरप्पा को किस वजह से जेल जाना पड़ा था। विधानसभा अध्यक्ष कोलीवाड ने कहा कि राज्य विधानसभा का गौरवपूर्ण इतिहास रहा है और भाजपा सदस्यों को धरना समाप्त करके सूखे व पेयजल की समस्या जैसे महत्वपूर्ण मसलों पर बहस का मार्ग प्रशस्त करना चाहिए ताकि पीडि़त लोगों को राहत पहुंचाने के बारे में निर्णय किया जा सके।

अध्यक्ष के आग्रह को सम्मान देते हुए शेट्टर ने सदन का कामकाज सुचारू रुप से चलने देने व सरकार की विफलताओं को उजागर करने का रास्ता साफ करने के लिए धरना वापस लेने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि चूंकि यह सरकार सच्चाई को उजागर नहीं होने देना चाहती है लिहाजा भाजपा डायरी के मसले को जनता के बीच लेकर जाएगी और सरकार की बुरी हरकतों को उजागर करेगी। इसके बाद भाजपा के सारे सदस्य अपने अपने आसन पर लौट गए। इस तरह सदन में 15 मार्च को पेश किए गए वित्तीय वर्ष 2017-18 के बजट के बाद से ही जारी गतिरोध खत्म हो गया और सदन की नियमित कामकाज बहाल हुआ।

LIVE CRICKET SCORE

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

X