> > > >Pakistani agent mazid khan releasing might be stop

पाकिस्तानी जासूस अब्बास की रिहाई खटाई में, जेल मंत्रालय ने शुरु की जांच

2016-11-04 09:24:04


पाकिस्तानी जासूस अब्बास की रिहाई खटाई में, जेल मंत्रालय ने शुरु की जांच
ग्वालियर। पाक खुफिया एजेंसी (आईएसआई) के जासूस अब्बास उर्फ माजिद खां की समय पूर्व रिहाई पर जल्द ही रोक लग सकती है। जेल मंत्रालय ने उसकी सजा माफी की जांच शुरू कर दी है कि आखिर जासूसी के गंभीर अपराध को नजरअंदाज कर उसे किस आधार पर अच्छे आचरण का बंदी माना गया। जेल के अंदर वह आतंकी सेल में बंद है।
यह भी पढ़ें: जेल मंत्री ने कहा- मैंने नहीं किया पाक जासूस को माफ

सेल से बाहर निकलने पर भी दूसरे बंदियों से बात करने से परहेज करता है। आशंका है, जासूसी के लिए अब्बास को 11 साल पहले पाक से भेजने वाले उसके आकाओं ने हिदायत दी होगी, पकडे़ जाने पर किसी कीमत पर मुंह नहीं खोलेगा। दूसरे बंदियों से दूरी रखने पर उसके बारे में कोई जानकारी हासिल नहीं कर सकेगा। इस रवैये से वह अच्छे आचरण के बंदियों में भी शुमार होगा। आशंका है, अब्बास की इसी चुप्पी को जेल प्रशासन ने अच्छा आचरण माना है, जबकि पकडे़ जाने से पहले उसका क्या रवैया था, रिपोर्ट खुफिया महकमा भेज चुका है।
यह भी पढ़ें: इस पाकिस्तानी जासूस पर मेहरबान है जेल विभाग, दिवाली से पहले दिया तोहफा
इसमें बताया गया है, अब्बास बृजविहार कॉलोनी (नई सड़क) पर बिरकू रजक के मकान में माधौसिंह बनकर किराए पर रह रहा था। क्षेत्र में अब्बास खुलकर लोगों से मिलता-जुलता था। पहचान छिपाकर वह हिंदू युवती से विवाह भी करने वाला था। उसे पकड़ा गया, तब बस्ती वाले यह मानने को तैयार नहीं थे कि वह पाक का जासूस है।
यह भी पढ़ें: पाकिस्तानी जासूस को सजा में रहत , एयरफोर्स स्टेशन की जासूसी करते पकड़ा था
यह भी पढ़ें: 106 साल के बंदी को 1 साल की माफी नहीं तो पाक जासूस को राहत क्यों

पकडे़ जाने के बाद अब्बास ने जासूसी का जुर्म तो कुबूला, पर गुप्तचर एजेसियां उससे यह नहीं उगलवा पाईं कि कॉलोनी तक उसे लाने वाला मददगार कौन था? उसे 13 मार्च 2006 को इंटेलीजेंस ब्यूरो की टिप पर बृज विहार कॉलोनी से पकड़ा गया था। जासूस के कब्जे से एयरबेस और सेना की जानकारियां, नक्शे, फोटोग्राफ , दस्तावेज और बुलंदशहर से बना फर्जी आईडी कार्ड मिले था।
यह भी पढ़ें: सिमी आतंकी घटना ने जेल की सुरक्षा पर लगाए सवालिया निशान, ऐसे हैं जेल के हाल
इंदरगंज थाना बना डिटेक्शन हाउस
अब्बास को 9 नवंबर को रिहा किया जा सकता हैं। आशंका पर पाकिस्तान दूतावास को इसकी जानकारी भेजी जा चुकी है। पाक एंबेसी से कोई जवाब नहीं आया है, इसलिए इंदरगंज थाने को डिटेक्शन हाउस बनाया जा रहा है। पुलिस का कहना है, अगर जासूस रिहा होता है तो जेल प्रशासन उसे पुलिस के हवाले कर देगा। जब तक पाकिस्तानी दूतावास उसे वापस मुल्क भेजने की इजाजत नहीं देगा उसे छोड़ा नहीं जा सकता। गुरुवार को इंदरगंज पुलिस ने केन्द्रीय जेल जाकर जासूस अब्बास के बारे मे जानकारियां जुटाई।
पिता: नाजिर खां, पत्नी: यास्मीन खां
पेशा: मजदूरी
निवासी: सेटेलाइट टाउन रहिमयार पाकिस्तान

LIVE CRICKET SCORE

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

X