> >Discussion on cow, cow urine and ghee in Rajya Sabha

राज्यसभा में गाय, गौमूत्र और घी पर चर्चा

2017-03-19 00:07:21


राज्यसभा में गाय, गौमूत्र और घी पर चर्चा
नई दिल्ली. लगातार हंगामे की भेंट चढऩे वाली राज्यसभा में शनिवार को एक निजी विधेयक पर जबरदस्त चर्चा हुई। विधेयक तो था पशु क्रूरता अधिनियम में बदलाव को लेकर, लेकिन चर्चा छिड़ गई गाय, गाय के घी व गौमूत्र पर। विधेयक लाए डीएमके के सांसद टी शिवा। वे बोले- पशुओं की देशी नस्लों की रक्षा होनी चाहिए। बैलों को इस अधिनियम से बाहर रखा जाना चाहिए। उन्होंने ट्रैक्टरों की जगह बैलों के प्रयोग करने की बात कही।

8000 रुपए उर्वरक...
गाय के घी में 47 ऑक्सीजन होती है। वह एक मात्र पशु है जो ऑक्सजीन लेती है और निकालती है। मृत गाय को जमीन में गाडऩे पर 8000 रु. का उर्वरक बनता है।
बासवराज पाटिल, भाजपा सांसद

बहुत प्रसन्नता है कि यह विधेयक डीएमके सांसद लाए हैं, जिसे भाजपा को लाना चाहिए था। मैं इसका ह्दय से समर्थन करता हूं। ला गणेशन, भाजपा सांसद

सरकार ध्यान रखे... संसदीय कार्य राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि डीएमके सांसद टी शिवा के प्रस्तावों को सरकार को ध्यान रखना चाहिए।

भैंस व बैलों न हो भेदभाव...
कांग्रेस सांसद बीके हरिप्रसाद ने विधेयक का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि भैंस और बैलों से भेदभाव नहीं होना चाहिए।

जलीकट्टू है छुपा मकसद..
कांग्रेस के एस जयराम रमेश ने कहा कि यह विधेयक जलीकट्टू के लिए लाया गया न कि किसी देशी नस्लों को बचाने या जैविक खाद को बढ़ावा देने के लिए।

नहीं घटता हिमोग्लोबिन...
करनाल के संस्थान में चल रहे शोध से साबित हुआ कि सिंचाई के पानी में गौमूत्र मिलाने से गन्ने लंबे, मोटे व मीठे होते हैं। टाटा कैंसर अस्पताल में पाया गया गौमूत्र सेवन से कीमोथेरेपी के दौरान भी खून कम नहीं हुआ।
-मेघराज जैन, भाजपा

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

LIVE CRICKET SCORE

पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

X