> > > >Tiger conservation drill

बाघ संरक्षण की कवायद

2017-04-20 00:57:31


बाघ संरक्षण की कवायद
बेंगलूरु।वन्यजीवों के संरक्षण के बारे में लोगों को जागरूक बनाने के लिए मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने बुधवार को पोस्टर जारी करते हुए बाघ संरक्षण अभियान का आगाज किया। 24 से 25 अप्रेल तक बाघ व हाथियों के अधिक तादाद वाले वनक्षेत्रों के सीमावर्ती इलाकों में यह अभियान चालाया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने आवासीय कार्यालय कृष्णाÓ में बाघ संरक्षण अभियान के पोस्टरों का अनावरण के बाद पत्रकारों से कहा कि मानव व वन्यजीवों के बीच संघर्ष को कम करने व वन्यजीवों के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए यह अभियान सहायक सिद्ध होगा। पर्यटन विभाग ने मौजूदा साल को वन्यजीव वर्ष घोषित किया है। इसके मद्देनजर राज्य के बाघ बहुल इलाकों में जन जागरूकता उत्पन्न की जाएगी।

उन्होंने कहा कि देश में सबसे अधिक बाघ होने का श्रेय कर्नाटक को जाता है। बाघों के साथहाथियों के संरक्षण पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है।
अभियान के अम्बेसेडर व फिल्म अभिनेता प्रकाश रैने कहा कि मानव व वन्यजीवों के बीच लगातार संघर्ष बढ़ रहा है। इस बारे में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करना जरूरी है। प्रकृति के साथ तालमेल बनाकर रखने की मनुष्य को जरूरत है।

LIVE CRICKET SCORE

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

X