> > > >No excuse for not being medication now

अब नहीं चलेगा दवा नहीं होने का बहाना

2017-03-21 05:26:26


अब नहीं चलेगा दवा नहीं होने का बहाना
बेंगलूरु।स्वास्थ्य विभाग ने सरकारी अस्पतालों में दवा आपूर्ति की व्यवस्था सुधारने के लिए कमर कस ली है। अस्पतालों में दवा के स्टॉक की स्थिति अब ऑनलाइन उपलब्ध होगी। विभाग को उम्मीद है कि इससे दवा आपूर्ति की व्यवस्था में पारदर्शिता आएगी और इसका दुरुपयोग रोका जा सकेगा। विभाग को उम्मीद है कि नई व्यवस्था से दवाओं की किल्लत, चोरी व एक्सपायर होने की समस्याओं का निदान हो सकेगा।

सरकारी अस्पतालों में दवाओं की आपूर्ति हमेशा से मरीजों और स्वास्थ्य विभाग की परेशानी का सबब रही है। दवाएं एक्सपायर हो जाती हैं लेकिन गरीबों तक नहीं पहुंचतीं। जांच में इस बात का खुलासा हो चुका है कि कई अस्पताल जरूरत से ज्यादा दवाएं मंगाते हैं तो कई अस्पतालों में दवाएं ही उपलब्ध नहीं होती। कई बार तो ऐसा भी होता है कि अस्पताल में दवा होने के बावजूद मरीजों को नहीं मिल पाती। इन्हीं सब दुव्र्यवस्थाओं के निराकरण के लिए सरकार अब दवाओं का पूरा स्टॉक ऑनलाइन रीयलटाइम अपडेट करेगी। इतना ही नहीं मरीज भी अब सरकारी अस्पतालों में दवाओं का स्टॉक देख सकेंगे।

मास्टर वेबसाइट पर चल रहा काम

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण आयुक्त सुबोध यादव ने बताया कि विभाग जल्द ही एक मास्टर वेबसाइट लॉन्च करेगा, जहां अस्पतालों व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में उपलब्ध दवा से संबंधित जानकारियां नियमित रूप से अपडेट होंगी। दवा का पूरा लेखा-जोखा ऑनलाइन उपलब्ध होगा। इसी के आधार पर दवाओं की आपूर्र्ति होगी। इस व्यवस्था से दवाओं की चोरी रुकेगी और दवाओं को एक्सपायर होने से रोका जा सकेगा। इस व्यवस्था से यह जानकारी ऑनलाइन मिलती रहेगी कि किस अस्पताल में कौन सी दवा की कितनी खपत हो रही है और कौन सी दवा कब खत्म होगी।

कमीशनखोरी पर लग सकेगी रोक

स्वास्थ्य विभाग के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि ऑनलाइन प्रणाली शुरू होने के बाद दवा खरीदी को लेकर लगने वाले आरोपों से बचा जा सकेगा। वहीं दवा के नाम पर हो रही कमीशनखोरी पर भी रोक लगेगी।
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

LIVE CRICKET SCORE

पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

X